• Home
  • UTTARAKHAND
More

    इंडिया ड्रोन फेस्टिवल 2020 का समापन महामहिम राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य की गरिमामय उपस्थिति में किया गया

    राज्य में आज दूसरी बार सूचना प्रौद्योगिकी विकास एजेंसी (ITDA), देहरादून और राष्ट्रीय तकनीकी अनुसंधान संगठन (NTRO) की संयुक्त पहल से ड्रोन एप्लीकेशन एंड रिसर्च सेंटर (DARC) द्वारा इंडिया ड्रोन फेस्टिवल 2020 का आयोजन प्ज्क्। परिसर आई.टी. पार्क, देहरादून में मा० मुख्यमंत्री जी द्वारा किया गया जिसमें प्रथम बार इस कार्यक्रम के माध्यम से काउन्टर ड्रोन का प्रदर्शन किया गया, जोकि अपने आप में एक नये फीचर के साथ प्रदर्शित किया गया जिसमें दुश्मन के ड्रोन काउन्टर को दर्शया गया, साथ ही ड्रोन के माध्यम से भौगोलिक सूचना तंत्र मापन सम्बन्धी साॅफ्टवेयर का शुभारम्भ एवं परीक्षण किया गया एक अन्य नवीन फीचर जिसमें आपदा प्रभावित क्षेत्र में एक स्थान से दूसरे स्थान तक ड्रौन के माध्यम से रेसक्यू हेतु रस्सी को जोडने का प्रदर्शन किया गया, जोकि अपने आप में आपदा की स्थिति के दौरान मदद हेतु ड्रोन के विशेष महत्व को दर्शाता है, एवं साथ ही डल ळवअ पोर्टल का राज्य में शुभारम्भ किया गया, जिसके माध्यम से सविधान 74वें संशोधन अधिनियम 1992 के तहत प्रावधान है, कि सरकार द्वारा प्रस्तावित वृहत कार्याें एवं योजनाओं के निर्णय लेने के लिये आम नागरिकों की सहभागिता एवं सुझाव प्राप्त किये जायेंगे।
    उक्त कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य तकनीकी क्षेत्र मे नवाचार, विकास और जनमानस को ड्रोन तकनीकी से अवगत कराने से था, साथ ही यह चैम्पियनशिप ड्रोन प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अनुसंधान और विकास को बढ़ावा देने और ड्रोन के महत्व की जानकारी के उद्देश्य से उठाया गया एक सराहनीय कार्य है, उक्त फेस्टिवल ने ड्रोन टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में कार्यरत कंपनियों को एक साथ एक सामान्य मंच पर लाते हुये वर्तमान ड्रोन तकनीकी रुझानों पर चर्चा और जटिल ड्रोन डिजाइन चुनौतियों को हल करने के लिए अपने विचारों को साझा करने का अवसर प्रदान किया गया, उपरोक्त के साथ यह कार्यक्रम कौशल विकसित करने के लिए भी संकेत देता है, और मानव रहित हवाई प्रणाली के डिजाइन, उपयोग और महत्व को भी प्रदर्शित करता है। सरकारी विभागों, यूनिवर्सिटी स्टूडेंट्स, इंडस्ट्री एक्सपर्ट्स, फ्लाइंग स्कूल्स और देश भर के व्यवसायियों द्वारा इस आयोजन के प्रति काफी उत्साह और रुचि दिखाई गयी।
    इस कार्यक्रम के द्वारा ड्रोन दौड़, ड्रोन प्रतियोगिताओं और प्रदर्शनों एवं प्रख्यात वक्ताओं जिसमें डी.जी.सी.ए. निदेशक श्री हिलोल विश्वास एवं साउथ अफ्रीका वेस्ड कम्पनी की मुख्य कार्यकारी अधिकारी लुसियनों जर्डिम ने अपने विचारों के माध्यम से ड्रोन तकनीकी के महत्व को साझा करने हेतु ऐसे मंच की प्रसंशा एवं सराहना की गयी, जिसमें विभिन्न राज्यों से आये वक्ताओं द्वारा बताया गया कि ड्रोन का इस आधुनिक युग में कई प्रकार से फायदे लिये जा सकते है, ड्रोन को काफी उंचाई तक उड़ाया जा सकता है। जहां तक सामान्य तौर पर मनुष्य खुद कैमरा लेकर नहीं जा सकता ड्रोन से आप कहीं दूर और दुर्गम स्थान की लाईव स्ट्रीमिंग वीडियो भी देख सकते हैं। ड्रोन से यह काफी आसान हो गया है। ड्रोन का दूसरा सबसे बड़ा फायदा यह है कि ड्रोन एक भार वाहक विमान है। ड्रोन के माध्यम से जहां आप खेतों में बीज बो सकते हैं एवं साथ ही कीटनाशक का छिडकाव कर सकते हैं, तो वहीं आप अन्य सामान एव आपदा के समय मैडिसन किट पहुचाने के लिए भी इसका प्रयोग कर सकते है। उक्त फेस्टिवल में लगभग विभिन्न क्षेत्रों एवं अन्य राज्यों से लगभग 160 प्रतिनिधियों एवं उत्तराखण्ड राज्य के लगभग 2000 प्रतिभागियों द्वारा प्रतिभाग किया गया व 13 जनपदों के 500 विद्यालयों में अध्यनरत 1.90 लाख छात्र/छात्राओं को लाइव स्ट्रीमिंग के माध्यम से प्रसारण कराया गया।
    सूचना एवं विज्ञान प्रौद्योगिकी, सचिव, श्री आर. के. सुधाशु द्वारा अपने संबोधन में कहा गया कि ड्रोन की तकनीकी से हमारे राज्य को जोडने में आई.टी.डी.ए. एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है, क्योंकि उत्तराखण्ड राज्य में आपदाओं के समय में आपदाग्रस्त क्षेत्रों में मदद पहंुचाने हेतु मैडिसन किट एवं उपयोगी सामान की पहुंच को ड्रोन द्वारा सुनिश्चित किया जा सकता है। इसलिये इस कार्यक्रम में विभिन्न राज्यों द्वारा ड्रोन के सम्बन्ध में जो भी आधुनिक तकनीकी का उपयोग किया जा रहा है, उनका उपयोग यहां साझा किया जायेगा। श्री अमित कुमार सिन्हा, निदेशक, आई.टी.डी.ए. ने कहा कि पूर्व में हुए आयोजन की सफलता एवं प्राप्त अनुभवों को दृष्टिगत रखते हुए (आई.टी.डी.ए) द्वारा इस प्रकार का आयोजन पुनः कराया जा रहा है, इस तरह के आयोजनों से हम ड्रोन तकनीकी से जुड़े हुए सभी वैश्विक कंपनियों को उत्तराखंड राज्य में लाने में सक्षम होंगे, जिससे अधिक रोजगार के अवसर पैदा होंगे। आशा है कि यह प्रयास उत्तराखंड राज्य की प्रगति में सहायक होगा।
    इस अवसर पर श्री गणेश जोशी विधायक मसूरी, श्री सुनील उनियाल गामा मेयर देहरादून, श्री रविन्द्र दत्त आई.टी. सलाहकार मा० मुख्यमंत्री, श्री उत्पल कुमार सिंह मुख्य सचिव, श्रीमती राधा रतूडी अपर मुख्य सचिव, श्री अनिल रतूडी पुलिस महानिदेशक, श्री अशोक कुमार डी.जी. कानून व्यवस्था, लेफ्टिनेंट जनरल गिरीश कुमार, श्री प्रदीप कपूर अपर सचिव छज्त्व्ए श्री मनीष कुमार उप्रेती, वित्त नियं़त्रक, कैप्टन रजत द्विवेदी, बेस डायरेक्टर छज्त्व्ए श्री विजय कुमार यादव, अपर सचिव सूचना एवं विज्ञान प्रौद्योगिकी श्री मनीष कुमार उप्रेती, वित्त नियं़त्रक एवं आई.टी.डी.ए. के अधिकारी एवं कर्मचारी मौजूद थे।

    Recent Articles

    आईआईपी और एसडीसी फाउंडेशन ने स्थापित किया देहरादून में दसवां प्लास्टिक बैंक

    आईआईपी और एसडीसी फाउंडेशन ने स्थापित किया देहरादून में दसवां प्लास्टिक बैंक माउंट...

    क्रिकेट में राजनीति,सीएयू सचिव चुनाव 20-20 में घमासान, कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री हीरा सिंह बिष्ट का साम,दाम,दंड,भेद और वर्मा की विनम्रता ?

    सीएयू सचिव चुनाव-2020 राज+नीति बनाम गिर-किट कहते है नेता, नेतागिरी से जाए लेकिन राजनीति से ना जाए...

    आज का युग ड्रोन क्रान्ति का युग है : श्रीमती बेबी रानी

    राज्य में आज द्वितीय दिवस के शुभ अवसर पर सूचना प्रौद्योगिकी विकास एजेंसी, देहरादून और राष्ट्रीय तकनीकी अनुसंधान...

    Related Stories

    Leave A Reply

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Stay on op - Ge the daily news in your inbox