Sunday, April 11, 2021
  • Home
  • UTTARAKHAND
More
    Sunday, April 11, 2021

    JUSTICS FOR ANIMALS WEEK – पशुओं के प्रति विनम्र व्यवहार इंसान का पहला कर्तव्य -स्वामी चिदानन्द सरस्वती

    उत्तराखण्ड  से अभिलाष खंडूड़ी की रिपोर्ट 

    21 से 27 फरवरी को दुनिया के कई देश जस्टिस फॉर एनिमल्स वीक के रूप में मनाते हैं ताकि पशुओं के साथ संपत्ति की तरह नहीं बल्कि जीवित प्राणियों की तरह व्यवहार किया जाये। घरेलू स्तर पर, कृषि के रूप में उपयोग किये जाने वाले पशु और वन्य प्राणियों के खिलाफ हो रहे अपराधों को रोकने हेतु जागरूकता बढ़ाने के लिये इस सप्ताह को समर्पित किया गया है।

    परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने जस्टिस फॉर एनिमल्स वीक के मौके पर मीडिया से बात करते हुए कहा कि आये दिन हम पशुओं के साथ हो रही आपराधिक घटनायें, दुर्व्यवहार, क्रूरता को देखते और सुनते हैं इसके लिये एक सुदृढ़ न्याय व्यवस्था के साथ जन जागरूकता भी जरूरी है। हम पशुओं के साथ क्रूरता और दुरुपयोग सभ्यता के विकास के साथ बढ़ते देख रहे है। हमें अपने बच्चों और युवा पीढ़ी को समझाना होगा कि प्रकृति के साथ सामंजस्य और पशुओं के साथ प्रेमपूर्ण व्यवहार करना नितांत आवश्यक है। मनुष्य अपनी निजी स्वतंत्रता के लिये  कई बार पशुओं के विरुद्ध हिंसा करते हैं और अब यह एक प्रचलन की तरह बढ़ते जा रहा है।

    स्वामी चिदानंद सरस्वती ने कहा कि पशुओं के विरुद्ध हो रही हिंसा के सबसे वीभत्स रूपों में से एक यह भी है कि मानव जीवन का स्तर सुधारने के लिये जो अनुसंधान किये जाते हैं उनका प्रभाव देखने के लिये पशुओं पर प्रयोग किये जाते हैं जो कि अमानवीय व्यवहार की श्रेणी में आता है। हमें यह स्वीकार करना पड़ेगा कि मानव की तरह ही पशु और प्रकृति भी इस सृष्टि के अविभाज्य अंग हैं जिनके प्रति कृतज्ञता पूर्ण व्यवहार करना सभी का परम कर्तव्य है क्योंकि मानव सभ्यता के विकास में प्रकृति और पशुओं का भी अहम योगदान रहा है। पशुओं के प्रति हो रही हिंसा अनैतिकता है और इस पर रोक लगाई जानी चाहिये।

    स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने कहा कि मानव सभ्यता के विकास के साथ मानव और पशु के बीच के संबंध मित्रवत् थे परन्तु विकास के साथ जैसे-जैसे मानव का स्वार्थ बढ़ते गया पशुओं के विरूद्ध शोषण बढ़ने लगा जो कि आज मानवता के सामने एक नैतिक प्रश्न बनकर खड़ा हो गया है। हिन्दू धर्म में पशुओं के प्रति सदव्यवहार की प्रेरणा दी गयी है पशुओं के प्रति दया भाव, अहिंसा और संवेदनापूर्ण नितांत आवश्यक है और यही नैतिकपूर्ण व्यवहार भी है।  जस्टिस फॉर एनिमल्स वीक के अवसर पर स्वामी चिदानंद सरस्वती  ने अपील करते हुए कहा कि  प्रत्येक प्राणी की स्वतंत्रता का सम्मान और  उनके प्रति नैतिकता पूर्ण व्यवहार  की न सिर्फ ज़रूरत है बल्कि हमारा कर्तव्य भी है। 

    Recent Articles

    अचानक जिलाधिकारियों पर सख़्त हुए मुख्यमंत्री , रोजाना 2 घंटे जनता से मिलने की दी हिदायत

    देहरादून से कार्यकारी संपादक आशीष तिवारी की रिपोर्ट जनप्रतिनिधियों से समन्वय सुनिश्चित करें जिलाधिकारी:...

    डेरी ग्रोथ सेंटर एवं दुग्ध उत्पादक सेवा केन्द्रों का मुख्यमंत्री ने किया ई-लोकार्पण

    मुख्यमंत्री  तीरथ सिंह रावत ने  राज्य समेकित सहकारी विकास परियोजना के अंतर्गत आँंचल बद्री गाय घी, पहाड़ी घी, आर्गेनिक घी, पनीर, डेरी...

    रमज़ान मुबारक – रमज़ान की रौनकें रोशन करती हैं राह ए ज़िंदगी

    उत्तराखंड से कार्यकारी संपादक आशीष तिवारी की रमज़ान स्पेशल रिपोर्ट - भारत कई संस्कृतियों...

    शादियों के कार्ड बंटने के बाद लगा नाइट कर्फ्यू, लोग परेशान अब कैसे बदलें टाइमिंग

    शादियों पर फिर 'संकट':सहारनपुर जिले गौतमबुद्धनगर जिले में संक्रमण बढ़ते देख प्रशासन ने नाइट कर्फ्यू लगा दिया है। बृहस्पतिवार से 17 अप्रैल तक...

    सरकार मल्टी स्टोरी बिल्डिंग बनाकर देगी गरीबों को सस्ता फ़्लैट – बंसीधर भगत

    उत्तराखंड सरकार में संसदीय कार्य और शहरी विकास मंत्री बंशीधर भगत ने कहा है कि जल्द ही प्रदेश के आर्थिक रूप से...

    Related Stories

    Leave A Reply

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Stay on op - Ge the daily news in your inbox