Thursday, February 25, 2021
  • Home
  • UTTARAKHAND
More
    Thursday, February 25, 2021

    जिन जनपदों में जन्म के समय लिंगानुपात में कमी देखी गयी है, उन जनपदों को फोकस करते हुए गहन माॅनिटरिंग की जाए : मुख्य सचिव श्री ओमप्रकाश

    देहरादून 04 जनवरी, 2021 (सू. ब्यूरो)
    मुख्य सचिव श्री ओमप्रकाश की अध्यक्षता में सोमवार को सचिवालय में महिला सशक्त्तिकरण एवं बाल विकास विभाग की राज्य स्तरीय टास्क फोर्स की बैठक आयोजित की गयी।
    बैठक के दौरान, मुख्य सचिव श्री ओमप्रकाश ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिन जनपदों में जन्म के समय लिंगानुपात में कमी देखी गयी है, उन जनपदों को फोकस करते हुए गहन माॅनिटरिंग की जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि मदर चाईल्ड ट्रेकिंग सिस्टम (एम.सी.टी.एस.) में सक्रिय भागीदारी निभाते हुए, गर्भवती महिला की प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय तिमाही की जाँच अवश्य करायी जाए। उन्होंने कहा कि द्वितीय तिमाही जाँच बहुत ही महत्त्वपूर्ण होती है। ऐसे समयावधि में गर्भपात होना अथवा जाँच न कराया जाना संदिग्ध होता है, यदि गर्भपात हुआ है तो इसके कारणों की भी जाँच की जानी चाहिए।
    मुख्य सचिव ने कहा कि लिंगानुपात में सुधार के लिए प्रोएक्टिव होकर काम करना होगा। इससे सम्बन्धित सभी विभागों को आपस में समन्वय बनाकर कार्य करना होगा। उन्होंने महिलाओं में आयरन की कमी एवं कुपोषण के साथ ही, मातृ मृत्यु दर को कम किए जाने हेतु लगातार प्रयास किए जाने की बात कही।
    मुख्य सचिव ने वन स्टाॅप सेंटर को और अधिक सक्रिय किए जाने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि वन स्टाॅप सेंटर में पंजीकृत केसों में से कितनों में चार्जशीट दाखिल हुयी, कितनों में सजा हुयी इसका भी ब्यौरा दिया जाना चाहिए। मुख्य सचिव ने कहा कि ड्राॅप आउट बालिकाओं के ड्राॅप आउट करने के कारणों को जानकर उनके निराकरण के प्रयास किए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि ड्राॅप आउट करने वाले बच्चों में अधिकतर प्रवासी और मजदूरों के बच्चे होते हैं, ऐसे में उनके लिए नोन-फार्मल एजुकेशन पर विचार किया जा सकता है।
    बैठक में बताया गया कि राज्य में जन्म के समय लिंगानुपात वर्ष 2018-19 में 938 बालिका प्रति हजार बालक था जो अब बढ़कर 949 बालिका प्रति हजार बालक हो गया है। जन्म के समय लिंगानुपात की दृष्टि से उत्तराखण्ड, देश के टाॅप 10 राज्यों में शामिल है और राज्य के 05 जनपद बागेश्वर, अल्मोड़ा, चम्पावत, देहरादून एवं उत्तरकाशी देश के टाॅप 50 जनपदों में शामिल हैं। बताया गया कि चमोली, नैनीताल एवं पिथोरागढ़ में लिंगानुपात में गिरावट आयी है।
    इस अवसर पर सचिव श्री एल. फैनई एवं श्री एच.सी. सेमवाल सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

    Recent Articles

    JUSTICS FOR ANIMALS WEEK – पशुओं के प्रति विनम्र व्यवहार इंसान का पहला कर्तव्य -स्वामी चिदानन्द सरस्वती

    उत्तराखण्ड  से अभिलाष खंडूड़ी की रिपोर्ट  21 से 27 फरवरी को दुनिया के...

    1 मार्च से शुरू होगा दूसरे चरण का टीकाकरण

    उत्तराखण्ड  से अभिलाष खंडूड़ी की रिपोर्ट  दूसरा चरण ...

    हरिद्वार महाकुंभ के लिए जर्मन हैंगर तकनीकी से बना बेस अस्पताल तैयार

    उत्तराखण्ड  से अभिलाष खंडूड़ी की रिपोर्ट  ...

    प्रमुख वन संरक्षक राजीव भरतरी का बड़ा फैसला  वन्य जीव हमले के प्रभावितों का बढ़ाया मुआवजा 

    उत्तराखण्ड  से अभिलाष खंडूड़ी की रिपोर्ट  रामनगर पहुंचे प्रमुख...

    उत्तराखंड बजट सत्र: COVID 19 RT-PCR टेस्ट कराने पर ही मिलेगा प्रवेश

    उत्तराखण्ड  से अभिलाष खंडूड़ी की रिपोर्ट 

    Related Stories

    Leave A Reply

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Stay on op - Ge the daily news in your inbox