• Home
  • UTTARAKHAND
  • India
More

    UTTARAKHAND पेयजल निगम के MD भजन सिंह का भागीरथ प्रयास कामयाबी की ओर 


    भारत सरकार के मेगा प्रोजेक्ट नमामि गंगे को उत्तराखंड में कामयाब बनाने के लिए उत्तराखंड पेयजल निगम बेहद ख़ास भूमिका निभा रहा है …

    नमामि गंगे के अंतर्गत उत्तराखंड पेयजल निगम को भारत सरकार ने बहुत बड़ी ज़िम्मेदारी सौंपी थी। लगभग 580 करोड़ की लागत से हरिद्वार में गंगा को प्रदूषण मुक्त करने के महत्वाकांक्षी योजना पर जगजीतपुर और सराय में 68 और 14 एमएलडी क्षमता वाली दो एसटीपी का निर्माण कराना किसी भगीरथ प्रयास से कम नहीं था …. इसके साथ ही 26 पंपिंग स्टेशनों को उच्चीकरण, तकनीकी क्षमता का विकास और सीवरेज विहीन इलाकों में 300 करोड़ की लागत से सीवर लाइन डालने की विभिन्न योजनाओं को पूरा करने की बड़ी ज़िम्मेदारी उत्तराखंड पेयजल निगम को दी गयी ।

    उत्तराखंड पेयजल निगम के प्रबंध निदेशक भजन सिंह ने अपने लंबे कार्य अनुभव और कुशल नेतृत्व में पतित पावनी गंगा को निर्मल और अविरल बनाने के केंद्र सरकार के इस मेगा प्रोजेक्ट पर हस्ताक्षर किया और  अपनी अनुभवी टीम के साथ इस मिशन को बेहतर तरीके से पूरा करने का भगीरथ प्रयास शुरू कर दिया। 

    हरिद्वार में  हर की पैड़ी को उसकी  दिव्यता के लिए पूरी दुनिया में खास प्रसिद्धि हासिल है ऐसे में यहां मां गंगा को शुद्ध और पावन बनाने के लिए उत्तराखंड पेयजल निगम के एमडी भजन सिंह के नेतृत्व में खास रणनीति और लंबी बैठकों के बाद सफल कार्ययोजना तैयार की गयी और सीवरेज व्यवस्था और उत्सर्जित सीवरेज और ड्रैनेज जल के ट्रीटमेंट के लिए अलग-अलग मदों में तकरीबन एक हजार करोड़ से अधिक की योजना पर काम को तेज रफ्तार से आगे बढ़ाया।  आपको बता दें कि उत्तराखंड की धर्म नगरी हरिद्वार में 171.53 करोड़ रूपये की अनुमानित लागत से जगजीतपुर में 68 एमएलडी और सराय में 14 एमएलडी की क्षमता के सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट का निर्माण कार्य एचएनबी इंजीनियर्स प्राइवेट लि‍मिटेड के ज़िम्मे सौंपा गया है।

    केंद्र सरकार के इस मेगा प्रोजेक्ट को जल्द से जल्द पूरा करने के लिए उत्तराखंड पेयजल निगम के एमडी भजन सिंह ने जहां एक तरफ तेज़ रफ़्तार से निर्माण कार्य को आगे बढ़ाने के लिए खुद सीधी मोनिटरिंग सुनिश्चित की वहीं निर्माण कार्य में लगे अधिकारियों को ये भी हिदायत दी कि इन दोनों परियोजनाओं के जरि‍ए किसी भी तरह का सीवरेज का गंदा पानी गंगा नदी में न बहे। योजना की शुरुआत की बात करें तो इस परियोजना की शुरुआत में खुद केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी मौजूद थे जहां उत्तराखंड पेयजल निगम के अनुभवी एमडी भजन सिंह ने सरकारी औपचारिकताये पूरी करते हुए इस मेगा प्रोजेक्ट की ज़िम्मेदारी सम्हाली थी ….

    उत्तराखंड पेयजल निगम के एमडी भजन सिंह  केंद्रीय मंत्री  नितिन गडकरी का स्वागत किया 

    केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने उस दौरान कहा था कि निर्मल गंगा सरकार की सर्वोच्‍च प्राथमिकता है और गंगा नदी के तट पर बसे 97 शहरों का 1750 एमएलडी सीवेज कचरा गंगा नदी में चला जाता है। इन सभी शहरों में राज्‍य सरकारों, नगर निगम और कॉरर्पोरेट कंपनियों की मदद से सीवेज शोधन संयंत्र (एसटीपी) स्‍थापित करने की जरूरत है। यहाँ आपको ये भी बताना ज़रूरी है की भारत में ऐसा पहली बार हुआ है कि हाइब्रिड एन्यूइटी पर आधारित पीपीपी मोड को सीवरेज क्षेत्र में भी अपनाया गया है 
      

    नमामि गंगे से जुडी प्रतीकात्मक तस्वीर 

    योजना की शुरुआत में  एनएमसीजी और राज्‍य स्‍तर की एजेंसी उत्तराखंड पेयजल निगम की तरफ से प्रबंध निदेशक भजन सिंह ने सीवेज शोधन संयंत्रों यानि एसटीपी के निर्माण और रखरखाव के लिए निजी क्षेत्र के रियायत पाने वालों के साथ त्रिपक्षीय समझौते पर हस्‍ताक्षर किया और पहले दिन से ही अपनी टीम के साथ इस बड़ी ज़िम्मेदारी को निभाने की योजना में जुट गए और आज उत्तराखंड पेयजल निगम अपनी इस महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी को कामयाबी के साथ आगे बढ़ा रही है। केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार हो या उत्तराखंड की त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार सबका एक ही लक्ष्य है निर्मल अविरल और शुद्ध गंगा ….

    हर की पैड़ी , हरिद्वार , उत्तराखंड 

    इसी सपने को हकीकत में बदलने की दिशा में हरिद्वार में इस मेगा प्रोजेक्ट को लांच किया गया था और आज  उत्तराखंड पेयजल निगम के प्रबंध निदेशक भजन सिंह के दिशा निर्देशन में भारत सरकार का नमामि गंगे प्रोजेक्ट हरिद्वार में बेहद कामयाबी से आगे बढ़ रहा है

    Recent Articles

    अच्छी खबर — अब आप नहीं रहेंगे बेरोजगार , 60 दिन में 9 करोड़ लोगों को मिली नौकरी

      भारत में कोरोना को फैलने से रोकने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता कर्फ्यू से शुरुआत की...

    भारत की बेटी प्रतिष्ठा ने किया कमाल – पहली बार किसी व्हीलचेयर स्टूडेंट का ऑक्सफ़ोर्ड में हुआ चयन 

    बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का मन्त्र एक बार फिर भारत को शोहरत दिला रहा है। बेटियों को बेटों...

    IAS , IIT , MBBS नहीं दुनिया का सबसे कठिन Intrence Exam है गाओकाओ  

    हिंदुस्तान में किसी भी माता पिता का सपना होता है कि उनकी संतान डीएम , पुलिस कप्तान , डॉक्टर या इंजीनियर बने .... लेकिन...

    नहीं रहे फिल्म शोले के सूरमा भोपाली – पढ़िए मशहूर कॉमेडियन जगदीप का सफ़रनामा    

    एक बार फिर फिल्म जगत से ग़मगीन खबर आयी है ... बॉलीवुड के जाने-माने कॉमिडियन और एक्टर जगदीप...

    बन गया संक्रमण मुक्त टेंट अस्पताल – आयुध फैक्ट्री को एक साल में मिली कामयाबी

    भारत के करोड़ों देशवासियों के लिए कोरोना आफत के बीच राहत देने वाली खबर उत्तर प्रदेश के कानपुर से आ गयी गई...

    Related Stories

    Leave A Reply

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Stay on op - Ge the daily news in your inbox