Flash Story
देहरादून :  मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल लिवर रोगों  को दूर करने में सबसे आगे 
जेल में बंद कैदियों से मिलने के लिए क्या हैं नियम
क्या आप जानते हैं किसने की थी अमरनाथ गुफा की खोज ?
राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने भारतीय वन सेवा के 2022 बैच के प्रशिक्षु अधिकारियों को दी बधाई
आग में फंसे लोगों के लिये देवदूत बनी दून पुलिस
आगर आपको चाहिए बाइक और स्कूटर पर AC जैसी हवा तो पड़ ले यह खबर
रुद्रपुर : पार्ट टाइम जॉब के नाम पर युवती से एक लाख से ज्यादा की ठगी
देहरादून : दिपेश सिंह कैड़ा ने UPSC के लिए छोड़ दी थी नौकरी, तीसरे प्रयास में पूरा हुआ सपना
उत्तराखंड में 10-12th के बोर्ड रिजल्ट 30 अप्रैल को होंगे घोषित, ऐसे करें चेक 

चारधाम यात्रा : HC ने कहा, ‘फिर सोचिए’, सरकार ने कहा, ‘तीन जिलों के लिए जारी करेंगे गाइडलाइन’

[ad_1]

देहरादून. आगामी 1 जुलाई से चारधाम यात्रा (Chardham Yatra) को स्थानीय लोगों के लिए आंशिक रूप से शुरू करने का फैसला ​उत्तराखंड सरकार ने लिया है. हालांकि तीन दिन पहले हाईकोर्ट ने इसे वापस लिये जाने की बात कही थी. उत्तराखंड हाईकोर्ट ने कोविड 19 महामारी के दौरान इस यात्रा पर अंदेशा ज़ाहिर करते हुए कहा था, चूंकि जम्मू व कश्मीर में अमरनाथ यात्रा को भी रद्द किया गया है, इसलिए राज्य की तीरथ सिंह रावत सरकार को भी या तो चारधाम यात्रा को रद्द करना चाहिए या स्थगित. दूसरी तरफ उत्तराखंड सरकार के प्रवक्ता ने शर्तों और गाइडलाइनों के साथ चारधाम यात्रा को शुरू करने के फैसले के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि सिर्फ तीन ज़िलों के लोगों के लिए ही यात्रा शुरू की जा रही है और गाइडलाइन्स तय की जा रही हैं.

राज्य सरकार के प्रवक्ता सुबोध उनियाल ने शनिवार को कहा कि जल्द ही चार धाम यात्रा के बारे में तीन ज़िलों के लिए विस्तृत गाइडलाइन जारी की जाएगी. एएनआई के मुताबिक उनियाल ने कहा कि सरकार सुनिश्चित करेगी कि प्रोटोकॉल का पालन हो. इससे एक दिन पहले उनियाल ने बताया था कि बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम को चमोली, रुद्रप्रयाग और उत्तराकाशी ज़िलों के स्थानीय लोगों के लिए 1 जुलाई से खोला जाएगा. कोविड संबंधी निगेटिव रिपोर्ट उन सभी भक्तों के लिए अनिवार्य होगी, जो तीर्थस्थलों के मंदिरों में प्रवेश करना चाहेंगे. उनियाल ने यह भी कहा कि एक पूरी गाइडलाइन का पालन इस दौरान करना होगा. साथ ही, एक वरिष्ठ अधिकारी हर धाम मंदिर और ज़िला प्रशासन के बीच समन्वय के लिए पदस्थ रहेगा. इसके पहले हाई कोर्ट ने इस यात्रा को शुरू करने के बारे में चिंता ज़ाहिर की.

ये भी पढ़ें : उत्तराखंड हाई कोर्ट ने कहा, ‘रोडवेजकर्मियों से बेगारी करा रही सरकार, संवैधानिक जिम्मेदारी में नाकाम’

uttarakhand news, uttarakhand high court, char dham yatra schedule, char dham yatra guideline, उत्तराखंड न्यूज़, उत्तराखंड हाई कोर्ट, चार धाम यात्रा शेड्यूल, चार धाम यात्रा गाइडलाइन

उत्तराखंड हाई कोर्ट ने चार धाम यात्रा संबंधी फैसले पर सरकार को पुनर्विचार करने को कहा.

हाईकोर्ट ने क्या कहा?

“जबकि हमें ये पता चल चुका है कि भीड़ जमा होने से कोविड-19 महामारी तेज़ी से फैलती है इसलिए यह अदालत अपने इस विचार पर कायम है कि कोविड-19 की आपदा को दोबारा आमंत्रित करने का कोई कदम न उठाया जाए. राज्य सरकार द्वारा चारधाम यात्रा शुरू किए जाने से यही होगा कि तीर्थस्थलों पर भारी तादाद में लोगों के जुटने के मौके बनेंगे. इसलिए कोर्ट निर्देश देता है कि राज्य सरकार 1 जुलाई से यह यात्रा शुरू करने के अपने फैसले पर फिर सोचे.”

ये भी पढ़ें : उत्तराखंड को HC ने डांटा, ‘ये बताइए थर्ड वेव की तैयारी क्या है… ये नहीं कि यहां रामराज्य है’

गौरतलब है कि बुधवार को कोविड-19 महामारी से जुड़ी कई याचिकाओं की सुनवाई के दौरान हाई कोर्ट ने ये निर्देश दिए. बता दें कि बीते 20 जून को उनियाल ने राज्य सरकार के निर्णय के बारे में बताया था और इससे पहले 29 अप्रैल को संक्रमण के मद्देनज़र राज्य में चारधाम यात्रा को स्थगित किया गया था.

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top