Flash Story
देहरादून :  मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल लिवर रोगों  को दूर करने में सबसे आगे 
जेल में बंद कैदियों से मिलने के लिए क्या हैं नियम
क्या आप जानते हैं किसने की थी अमरनाथ गुफा की खोज ?
राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने भारतीय वन सेवा के 2022 बैच के प्रशिक्षु अधिकारियों को दी बधाई
आग में फंसे लोगों के लिये देवदूत बनी दून पुलिस
आगर आपको चाहिए बाइक और स्कूटर पर AC जैसी हवा तो पड़ ले यह खबर
रुद्रपुर : पार्ट टाइम जॉब के नाम पर युवती से एक लाख से ज्यादा की ठगी
देहरादून : दिपेश सिंह कैड़ा ने UPSC के लिए छोड़ दी थी नौकरी, तीसरे प्रयास में पूरा हुआ सपना
उत्तराखंड में 10-12th के बोर्ड रिजल्ट 30 अप्रैल को होंगे घोषित, ऐसे करें चेक 

अजब प्रेम की गजब कहानी: डॉगी को पहले नाम दिया ‘कुंवर सिंह’, फिर बना दिया संस्‍था का CEO

[ad_1]

कुत्ते को प्‍यार से सभी लोग कुंवर सिंह की बुलाते हैं.

कुत्ते को प्‍यार से सभी लोग कुंवर सिंह की बुलाते हैं.

उत्तराखंड के नैनीताल (Nainital)में गीली मिट्टी संस्था द्वारा एक कुत्‍ते को सीईओ (Dog)बनाने का मामला सामने आया है. मजेदार बात ये है कि यह कुत्‍ता गांव के सभी लोगों को प्‍यार करता है बल्कि लोग भी अगर एक दिन न दिखे तो परेशान हो जाते हैं. जानिए अजब प्रेम की गजब कहानी.

नैनीताल. जानवर भले ही बेजुबान होते हैं और इनमें सोच समझ का भी अभाव हो, लेकिन इनके अंदर भी भावनाएं होती हैं. जानवरों में सबसे वफादार कुत्ते (Dog) को माना जाता रहा है. जबकि हम आपको ऐसी ऐसी हैरान करने वाली कहानी बता रहे हैं, जहां कुत्ता बन गया एक संस्था का सीईओ (CEO) और नाम मिला कुंवर सिंह (Kunwar Singh).दरअसल, यह एकदम सच है और कहानी उत्तराखंड के नैनीताल के एक गांव की है.

ये कोई आवारा कुत्ता नहीं बल्कि कुंवर सिंह है और वो भी गीली मिट्टी संस्था का सीईओ. सुनने में अटपटा जरूर लग रहा होगा, लेकिन ये सच है. नैनीताल के महरोडा गांव में गिली मिट्टी की संस्थापिका शगुन सिंह का ये एनिमल प्रेम एक मिसाल भी है. कैम्प में आने वालों का ध्यान रखना हो या फिर उनको आसपास घूमना कुंवर अपनी जिम्मेदारी निभाता है और परेशान लोगों को भी दुखी देख उनके पास बैठकर सुकून देता है.

ऐसे शुरू हुई दोस्‍ती की कहानी

दरअसल 2015 में शगुन इस नैनीताल के इस गांव पहुंची तो कुंवर सिंह से मुलाकात हुई. नाता इस कदर जुड़ा की पहले दोस्ती और फिर संस्था का सीईओ कुंवर सिंह को बना दिया और अब सब खुश हैं. गीली मिट्टी की संस्थापिका शगुन सिंह कहती है कि 2015 में जब वो नैनीताल के महरोड़ा गांव में आई तो सबसे पहले मुलाकात इसी कुंवर सिंह से हुई. उनको हमने नहीं लेकिन उसने हमको चुना है और अपने गांव में रहने का न्यौता दिया. आज वो सभी का ख्याल रखते हैं और लोगों को सड़क तक छोड़कर आते हैं और किसी को दुखी नहीं देखते हैं.

Dog, Nainital, Uttarakhand, Kunwar Singh

अनोखी दोस्ती की हर कोई तारीफ करता है.

गांव में भी कुंवर सिंह के चर्चे

कुंवर सिंह की मुहब्बत शगुन सिंह से नहीं है बल्कि वह गांव में भी चर्चित है. पर्यटकों को सड़क से लाने के साथ गांव के लोगों को घर तक छोड़ने जाता है. बच्चों और बुजुर्गों के साथ एकदम घुलने-मिलने की कला भी कुंवर सिंह में है तो सुबह पूरे गांव का चक्कर काटकर लोगों से मुलाकात करता है. अगर कभी नहीं दिखे तो लोगों में चिंता भी कुंवर सिंह की हो जाती है. गांव के देव सिंह कहते हैं कि रोजाना मुझे ये गांव तक छोड़ने आता है. यही नहीं, वह हर सुबह गांव का चक्कर काटता है और गांव के लोगों को भी कुंवर सिंह की इंतजार होता है. अगर एक दो दिन नहीं दिखे तो एक दूसरे से जानकारी लेनी पड़ती है.





[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top