Flash Story
देहरादून :  मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल लिवर रोगों  को दूर करने में सबसे आगे 
जेल में बंद कैदियों से मिलने के लिए क्या हैं नियम
क्या आप जानते हैं किसने की थी अमरनाथ गुफा की खोज ?
राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने भारतीय वन सेवा के 2022 बैच के प्रशिक्षु अधिकारियों को दी बधाई
आग में फंसे लोगों के लिये देवदूत बनी दून पुलिस
आगर आपको चाहिए बाइक और स्कूटर पर AC जैसी हवा तो पड़ ले यह खबर
रुद्रपुर : पार्ट टाइम जॉब के नाम पर युवती से एक लाख से ज्यादा की ठगी
देहरादून : दिपेश सिंह कैड़ा ने UPSC के लिए छोड़ दी थी नौकरी, तीसरे प्रयास में पूरा हुआ सपना
उत्तराखंड में 10-12th के बोर्ड रिजल्ट 30 अप्रैल को होंगे घोषित, ऐसे करें चेक 

IIT रुड़की ने ब्लास्ट रेसिस्टेंट हेलमेट का डिजाइन किया तैयार, इन खतरों से जवानों को बचाएगा

[ad_1]

आईआईटी रुड़की ने एक हेलमेट तैयार किया है, जो उन्हें आईईडी ब्लास्ट की खतरनाक वेब्स से बचाएगा.

आईआईटी रुड़की ने एक हेलमेट तैयार किया है, जो उन्हें आईईडी ब्लास्ट की खतरनाक वेब्स से बचाएगा.

IIT रुड़की ने ब्लास्ट रेसिस्टेट हेलमेट का डिजाइन तैयार किया है, जो आर्मी के जवानों को आईईडी विस्फोटक की वेव्स को रोकने में मददगार साबित होगा. 

रुड़की. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) रुड़की तो वैसे प्रतिदिन नए-नए शोध करता रहता है, लेकिन इस बार विस्फोटक प्रतिरोधक क्षमता वाला एक हेलमेट का डिजाइन तैयार किया है. जोकि अधिकतर आर्मी जवानों को आईडी ब्लास्ट की वेव्स से बचने में मददगार साबित होगा. साथ ही जब कही दंगा फसाद होता है तो उस समय भी सुरक्षा के लिहाज के काफी फायदेमंद साबित हो सकता है.

बता दें कि IIT रुड़की के मैकेनिकल एंड इंडस्ट्रियल इंजीनियर डिपार्टमेंट के असिस्टेंट प्रोफेसर शैलेश गणपुले ने अपने दो सहयोगियों के साथ मिलकर यह हैलमेट तैयार किया है. जोकि लगभग 3 साल में बनकर तैयार हुआ है. साथ ही इसकी कीमत 500 से 1000 तक है. वहीं इस हेलमेट के लिए उन्हें एनएसजी काउंटर-आईईडी काउंटर टेररिज्म इन्वोवेटर अवार्ड 2021 से भी सम्मानित किया गया है.

असिस्टेंट प्रोफेसर शैलेश गणपुले ने कहा कि वैसे तो आर्मी में इस तरह के हैलमेट रहते है, लेकिन इसमें उन्होंने कुछ अलग सीरीज जोड़ी है दी. जोकि हैलमेट में फेसशील्ड एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा. वहीं ब्लास्ट के समय काफी सुरक्षा और ब्लास्ट की वेव्स को अंदर जाने से रोकता है. जिससे सिर पर चोटें आने कम संभावना रहती है. असिस्टेंट प्रोफेसर शैलेश का कहना है सब चीजें उन्होंने लैब में प्रूफ करके ही हैलमेट तैयार किया है. साथ ही चंडीगढ़ की एक लैब के जल्द एक समझौता करने जा रहे हैं, ताकि इस हेलमेट का ज्यादा से ज्यादा फायदा मिल सके.





[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top