Flash Story
देहरादून :  मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल लिवर रोगों  को दूर करने में सबसे आगे 
जेल में बंद कैदियों से मिलने के लिए क्या हैं नियम
क्या आप जानते हैं किसने की थी अमरनाथ गुफा की खोज ?
राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने भारतीय वन सेवा के 2022 बैच के प्रशिक्षु अधिकारियों को दी बधाई
आग में फंसे लोगों के लिये देवदूत बनी दून पुलिस
आगर आपको चाहिए बाइक और स्कूटर पर AC जैसी हवा तो पड़ ले यह खबर
रुद्रपुर : पार्ट टाइम जॉब के नाम पर युवती से एक लाख से ज्यादा की ठगी
देहरादून : दिपेश सिंह कैड़ा ने UPSC के लिए छोड़ दी थी नौकरी, तीसरे प्रयास में पूरा हुआ सपना
उत्तराखंड में 10-12th के बोर्ड रिजल्ट 30 अप्रैल को होंगे घोषित, ऐसे करें चेक 

18 घंटे बाद केदारनाथ यात्रा शुरू, 15 हजार से ज्यादा तीर्थयात्री रवाना

न्यूज़ वायरस के लिए मेहविश फ़िरोज़ की रिपोर्ट

केदारनाथ धाम में दो दिन की बारिश और बर्फबारी के बाद तापमान में गिरावट दर्ज की गई है। केदारनाथ मंदिर के चारों तरफ चोटियां बर्फ से घिर गई हैं। मंदिर के चारों तरफ पहाड़ियों में सफेद बर्फ की चादर बिछ चुकी है। वहीं, मंदिर और आसपास के इलाकों में बर्फबारी से तापमान में गिरावट दर्ज की गई है। केदारपुरी में श्रद्धालु ठंड से ठिठुर रहे हैं , रुद्रप्रयाग में भी ठंड बढ़ गई है , लोग गर्म कपड़ों में नजर आ रहे हैं। लेकिन राहत की बात ये है कि 18 घंटे बाद ही सही लेकिन बारिश और बर्फबारी रुकने पर केदारनाथ यात्रा फिर शुरू हो गई है। सोनप्रयाग और गौरीकुंड के पड़ावों से 15 हजार से ज्यादा तीर्थयात्री मंगलवार सुबह 6 बजे केदारनाथ के लिए रवाना किये गए हैं।

चार धाम में बाधक बनी दो दिन की बारिश और बर्फबारी

रुद्रप्रयाग जिले में सोमवार और मंगलवार दो दिन जमकर बारिश हुई। वहीं, केदारनाथ धाम में बर्फबारी के बाद दोनों ही दिन केदारनाथ यात्रा को सोनप्रयाग में रोकना पड़ा। इसके अलावा फाटा और गौरीकुंड से हेलीकॉप्टर सेवाएं भी अस्थायी रूप से निलंबित करनी पड़ी थी। फिलहाल पैदल यात्रा के साथ ही हेली सेवाएं भी फिर से शुरू कर दी गई है। केदारनाथ धाम कपाट खुलने की तिथि 6 मई से 24 मई शाम 6 बजे तक 3,20, 833 श्रद्धालु दर्शन कर चुके हैं। 24 मई की रात तक 9,69,610 तीर्थ यात्री चारों धामों के दर्शन कर चुके हैं। इस मौसम की मार से जहाँ यात्री परेशान हैं वहीँ स्थानीय प्रशासन और राज्य सरकार भी अब फूँक फूँक कर कदम आगे बढ़ा रही है जिससे किसी भी तरह की कोई जन हानि और दुर्घटना को होने से बचाया जा सके। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top