Flash Story
देहरादून :  मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल लिवर रोगों  को दूर करने में सबसे आगे 
जेल में बंद कैदियों से मिलने के लिए क्या हैं नियम
क्या आप जानते हैं किसने की थी अमरनाथ गुफा की खोज ?
राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने भारतीय वन सेवा के 2022 बैच के प्रशिक्षु अधिकारियों को दी बधाई
आग में फंसे लोगों के लिये देवदूत बनी दून पुलिस
आगर आपको चाहिए बाइक और स्कूटर पर AC जैसी हवा तो पड़ ले यह खबर
रुद्रपुर : पार्ट टाइम जॉब के नाम पर युवती से एक लाख से ज्यादा की ठगी
देहरादून : दिपेश सिंह कैड़ा ने UPSC के लिए छोड़ दी थी नौकरी, तीसरे प्रयास में पूरा हुआ सपना
उत्तराखंड में 10-12th के बोर्ड रिजल्ट 30 अप्रैल को होंगे घोषित, ऐसे करें चेक 

Kumbh COVID Test Scam: SIT के सामने पेश हुए आरोपी, पूछताछ में हाथ लगे अहम सुराग

[ad_1]

पुलकित शुक्ला

हरिद्वार. कुंभ मेले (Haridwar Kumbh Mela) के कोविड टेस्ट गड़बड़ी (COVID-19 Test Scam) मामले की जांच में गुरुवार का दिन काफी खास रहा. कोरोना टेस्ट गड़बड़ी मामले में आरोपी कंपनी और टेस्टिंग लैब से जांच अधिकारियों ने घंटों पूछताछ की. सीडीओ (CDO) सौरव गहरवार की अध्यक्षता में बनी कमेटी ने मैक्स कॉरपोरेट सर्विसेज के संचालकों से करीब 6 घंटे पूछताछ की. सूत्रों के मुताबिक बंद कमरे में चली पूछताछ में जांच कमेटी को कई अहम जानकारियां हाथ लगी हैं. इसके अलावा टेस्टिंग लैब नालवा के संचालकों से पुलिस एसआईटी (SIT) ने भी घंटों पूछताछ की. पूछताछ खत्म होने के बाद सीडीओ सौरव गहरवार ने बताया कि जांच कमेटी ने मैक्स कॉरपोरेट (Max Corporate) से कुछ और अहम दस्तावेज मांगे हैं. उम्मीद है कि जल्द ही सभी तथ्य सामने आ जाएंगे. उन्होंने बताया कि तीसरी आरोपी कंपनी लालचंदानी लैब (Lalchandani Lab) ने सोमवार को पेश होने की बात कही है.

.

सीडीओ सौरभ गहरवार की पूछताछ के बाद कमरे से बाहर निकले मैक्स कॉरपोरेट सर्विसेज (Max Corporate Services) के संचालक शरद पंत और मल्लिका पंत ने खुद को बेकसूर बताया. उन्होंने कहा कि कि उन्हें बदनाम किया जा रहा है. मैक्स कॉरपोरेट सर्विसेज कोई टेस्टिंग लैब नहीं है. इसलिए जिन दो लैबों ने टेस्ट किए हैं उन्हीं से सवाल किए जाने चाहिए. वे अधिकारियों की जांच में पूरा सहयोग कर रहे हैं.

जल्दी उठ सकता है घोटाले से पर्दा

जून के दूसरे सप्ताह में कुंभ मेले के दौरान हुए कोविड टेस्ट (Kumbh Mela Corona Test Scam) में गड़बड़ियों का मामला सामने आया था. इसके बाद शासन के निर्देश पर हरिद्वार के जिलाधिकारी ने सीडीओ की अध्यक्षता में एक जांच कमेटी का गठन किया था और 17 जून को सीएमओ डॉ. एसके झा की ओर से हरिद्वार नगर कोतवाली में एक फर्म और दो टेस्टिंग लैब के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया था. इसके बाद एसएसपी हरिद्वार ने मामले पर एसआईटी (SIT) का गठन कर दिया था. गुरुवार को मैक्स कॉर्पोरेट और नालवा लैब के संचालक एसआईटी और सीडीओ के सामने पेश हुए. अधिकारियों का कहना है कि मामले में कई अहम जानकारियां जुटाई गई हैं. जल्दी ही सभी तथ्य सामने आ जाएंगे.

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top