Flash Story
देहरादून :  मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल लिवर रोगों  को दूर करने में सबसे आगे 
जेल में बंद कैदियों से मिलने के लिए क्या हैं नियम
क्या आप जानते हैं किसने की थी अमरनाथ गुफा की खोज ?
राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने भारतीय वन सेवा के 2022 बैच के प्रशिक्षु अधिकारियों को दी बधाई
आग में फंसे लोगों के लिये देवदूत बनी दून पुलिस
आगर आपको चाहिए बाइक और स्कूटर पर AC जैसी हवा तो पड़ ले यह खबर
रुद्रपुर : पार्ट टाइम जॉब के नाम पर युवती से एक लाख से ज्यादा की ठगी
देहरादून : दिपेश सिंह कैड़ा ने UPSC के लिए छोड़ दी थी नौकरी, तीसरे प्रयास में पूरा हुआ सपना
उत्तराखंड में 10-12th के बोर्ड रिजल्ट 30 अप्रैल को होंगे घोषित, ऐसे करें चेक 

पहाड़ की सबसे डरावनी जगह, आत्‍मा और चीख का है यहाँ आज भी डेरा !

विशेष रिपोर्ट – फ़िरोज़ गाँधी
उत्तराखंड, देवभूमि के नाम से दुनियाभर में अपनी खूबसूरत नज़रों के लिए हमेशा से ही आकर्षण का केंद्र रहती है। यहां पर दूर-दूर से पर्यटक आते हैं और प्राकृतिक सौंदर्य  का आनंद उठाते हैं. लेकिन इसी देवभूमि में कई रहस्यमयी लोकेशन ऎसी भी है जहाँ आज भी लोग जाने से बचते हैं।   में एक जगह ऐसी है जहां पर जाने से लोग बचते हैं या अगर ये कहें कि वो जाना ही नहीं चाहते हैं तो गलत नहीं होगा इस जगह के बारे में जानकर आप सिहर जाएंगे क्योंकि इसे सबसे भूतिया जगहों में से एक माना जाता है.

मसूरी से कुछ ही दूर

यह जगह है उत्तराखंड की लंबी देहर खदान और इस जगह के कुछ किलोमीटर तक लोगों को डर, दहशत का अहसास होता रहता है. इस जगह के साथ कई भूतिया कहानियां हैं जो यहां पर आसपास के लोगों भी सुनाते हैं. इस जगह पर कई हॉरर फिल्मों और सीरियल्स की शूटिंग भी हो चुकी है. यह जगह मसूरी से कुछ किलोमीटर की दूरी पर है. यहां पर जाते ही अगर आप किसी स्‍थानीय नागरिक से लांबी देहर घूमने की बात करेंगे तो वो आपको इस जगह पर न जाने के लिए कहेगा..

1996 से बंद पड़ी है खदान

इस जगह की कहानी सन् 1990 से जुड़ी है. कहते हैं कि खदान में काम करने वाले 50,000 मजदूर गलत प्रक्रिया से होने वाली माइनिंग के चलते दर्द से मर गए थे. जो मजदूर खदान के पास रहते थे उन्‍हें फेफड़ों की बीमारी हो गई थी….  से सभी मजदूर खांस-खांस कर मर गए…  सभी मजदूरों को खून की उल्टियां हुई थीं….  तब से ही लंबी देहर माइंस मसूरी की सबसे खतरनाक जगह बन गई है…  इसका डरावना इतिहास पिछले कई सालों से लोगों को डरा रहा है…  स्‍थानीय लोगों के मुताबिक लंबी देहर माइंस चूना पत्थर की खदानें हुआ करती थीं…  यहां पर अंग्रेजों के जमाने की इन खदानों को साल 1996 में बंद कर दिया गया था.

सुनाई देती हैं चीखें

आसपास रहने वाले लोगों को अचानक ही किसी की चीख सुनाई देती है तो कभी कोई आवाज देकर राहगीरों से मदद की अपील करने लगता है.हर साल यहां पर होने वाले हादसे बढ़ते जा रहे थे और इस वजह से ही खदानों को बंद करने का फैसला किया गया था.इस जगह पर सिर्फ 20 लोग ही रहते हैं. लोगों के मुताबिक, यहां पर प्रेतात्माएं रहती हैं और यहां से लगातार उनके रोने, चीखने-चिल्लाने की अजीब आवाजें आती रहती हैं..लोगों के मुताबिक, इस खदान के सामने से जो भी गुजरता है या तो खुद ही उसकी मौत हो जाती है या फिर उसका एक्सीडेंट हो जाता है.

क्रैश हो चुका है एक हेलीकॉप्टर

लंबी देहर माइंस पर अब में कई बड़े-बड़े पेड़ उग आए हैं और ये एक जंगल का रूप ले चुका है..कई लोगों के चीखने चिल्लाने की आवाजें अक्सर यहां पर सुनाई देती हैं जिसकी वजह से कोई भी रात में इसके पास से भी नहीं गुजरता है.यहां से गुजरने वाले वाहनों के हादसे तो आम बात हो गयी है. बुजुर्गों की मानें तो किसी समय पर यहां पर चुड़ैल का साया था जिसकी वजह से ही अक्‍सर एक्‍सीडेंट्स होते थे.अगर आप भी रोमांचक और रहस्यमय लोकेशन की कहानियों में दिलचस्पी रखते हैं तो एक बार इस डेस्टिनेशन पर समय बिताने ज़रूर आये ,  लेकिन शर्त ये है कि आपका दिल मज़बूत हो.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top