Home उत्तराखंड मोमोज़ खाने वालों पहले ये पढ़ लो फिर देना आर्डर

मोमोज़ खाने वालों पहले ये पढ़ लो फिर देना आर्डर

मोमोज, सर्दियों के सबसे पसंदीदा स्ट्रीट फूड में गिना जाता है. क्योंकि, कड़कड़ाती ठंड में मोमोज खाने का अपना ही मजा है. जैसे ही प्लेट में शेजवान चटनी और मेयोनीज के साथ सजकर मोमोज आते हैं, हर किसी का दिल खुश हो जाता है और मोमो लवर्स तो इस बात को बहुत अच्छे से समझ सकते हैं. लेकिन, ये मोमोज आपकी सेहत के लिए बेहद खतरनाक हो सकते हैं. वैसे भी आपने बड़ों को अक्सर मोमोज खाने पर टोकते देखा ही होगा या आपके साथ भी ऐसा ही हुआ होगा. क्यों, इसकी सबसे बड़ी वजह है मैदा का देर से पचना.मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार हाल ही में एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसके बारे में जानकर आपको थोड़ी हैरानी और थोड़ा डर लग सकता है. दरअसल, भारतीय अस्पताल एम्स में एक मामला सामने आया, जिसमें एक व्यक्ति की मोमोज के चलते दम घुटने से मौत हो गई. वजह थी, मोमोज को सीधे निगल जाना. हालांकि, और भी कई वजहों से मोमोज ना खाने या कम खाने की हिदायत दी जाती है. तो ये टेस्टी मोमोज आपकी सेहत को कैसे प्रभावित कर सकते हैं, आईये आपको बताते हैं.

केमिकल का बना होता है आटा

मोमोज में इस्तेमाल किया जाने वाला मैदा वास्तव में रिफाइंड आटे से बना होता है, जिसे बेंजोयल पेरोक्साइड, एज़ोडीकार्बोनामाइड और अन्य ब्लीच के इस्तेमाल से तैयार किया जाता है. ये रसायन बाद में आपके पैनक्रियाज को प्रभावित कर सकता है.

अधपकी और खराब सब्जियों का इस्तेमाल

मोमोज में जो सब्जियां भरी जाती हैं उनमें घटिया क्वालिटी की सब्जियां इस्तेमाल की जाती हैं. जिन्हें ना तो ठीक से धोया जाता है और ना ही ये सही गुणवत्ता वाली होती हैं. इनमें ई-कोलाई बैक्टीरिया भी होता है जो गंभीर संक्रमण पैदा कर सकता है.

बहुत स्पाइसी होती है चटनी

मोमोज के साथ दी जाने वाली शेजवान चटनी लाल मिर्च के इस्तेमाल से बनाई जाती है, जो सेहत के लिए हानिकारक हो सकती है. अगर यह मिर्च प्रोसेस्ड हुई तो ये कई स्वास्थ्य संबंधी समस्या उत्पन्न कर सकती है

RELATED ARTICLES

आयुष्मान उत्तराखंड : मुफ्त उपचार पर खर्च हुई 12 अरब से अधिक की धनराशि

राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण उत्तराखंड। प्रगति के आंकड़े और जन मानस के फीडबैक इस बात की तस्दीक करते हैं कि प्रदेश में संचालित आयुष्मान योजना...

दुनिया का सबसे महंगा गुलाब, कीमत है 112 करोड़

जूलियट रोज दुनिया का सबसे महंगा गुलाब है। इसे खरीदने के बारे में सोचकर बड़े से बड़े रईसों के भी पसीने छूट जाते हैं।एक...

उत्तराखंड पुलिस कैदियों को सीखा रही कंप्यूटर – सही राह दिखाने की मुहिम

उत्तराखंड की अल्मोड़ा जेल में बंद कैदियों को इन दिनों कंप्यूटर का प्रशिक्षण दिया जा रहा है... आपको बता दें कि अल्मोड़ा की जेल...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

आयुष्मान उत्तराखंड : मुफ्त उपचार पर खर्च हुई 12 अरब से अधिक की धनराशि

राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण उत्तराखंड। प्रगति के आंकड़े और जन मानस के फीडबैक इस बात की तस्दीक करते हैं कि प्रदेश में संचालित आयुष्मान योजना...

दुनिया का सबसे महंगा गुलाब, कीमत है 112 करोड़

जूलियट रोज दुनिया का सबसे महंगा गुलाब है। इसे खरीदने के बारे में सोचकर बड़े से बड़े रईसों के भी पसीने छूट जाते हैं।एक...

उत्तराखंड पुलिस कैदियों को सीखा रही कंप्यूटर – सही राह दिखाने की मुहिम

उत्तराखंड की अल्मोड़ा जेल में बंद कैदियों को इन दिनों कंप्यूटर का प्रशिक्षण दिया जा रहा है... आपको बता दें कि अल्मोड़ा की जेल...

डीएम सोनिका की जनसुनवाई में होता है फैसला “ऑन द स्पॉट”

जिलाधिकारी सोनिका की अध्यक्षता में जनसुनवाई कार्यक्रम आयोजित किया गया। जनसुनवाई कार्यक्रम में 112 शिकायतें प्राप्त हुई। जिनमें अधिकतर मामले भूमि से संबंधित प्राप्त...

नैनीताल में भी दरार की आहट – संयोग या संकेत ?

जोशीमठ को सम्हालने की जद्दोजहद कर रही धामी सरकार के सामने झीलों की नगरी और विश्व प्रसिद्ध टूरिस्ट सिटी नैनीताल आने वाले दिनों में...

वेलेंटाइन डे : 7 दिन प्यार भरे – जानिए हर दिन की खासियत

प्यार का महीना आ चुका है और दुनियाभर में लोग अपने क्रश, पार्टनर या करीबियों से अपने प्यार का इज़हार करने को बेताब हैं।...

पहाड़ में ट्रेन दौड़ाने को परियोजना ने पकड़ी रफ्त्तार

ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल परियोजना पर रेल विकास निगम को एक और सफलता हासिल हुई है। निर्माण कार्य में जुटी मेगा कंपनी ने शनिवार को नरकोटा...

दूसरे चरण में अग्निवीरों की भर्ती के लिए जानिए इस बार क्या हुआ बदलाव

फरवरी , भारतीय सेना यानी इंडियन आर्मी फरवरी के मध्य में अग्निपथ मॉडल के तहत अग्निवीरों की भर्ती के दूसरे फेज को शुरू करने...