Flash Story
देहरादून :  मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल लिवर रोगों  को दूर करने में सबसे आगे 
जेल में बंद कैदियों से मिलने के लिए क्या हैं नियम
क्या आप जानते हैं किसने की थी अमरनाथ गुफा की खोज ?
राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने भारतीय वन सेवा के 2022 बैच के प्रशिक्षु अधिकारियों को दी बधाई
आग में फंसे लोगों के लिये देवदूत बनी दून पुलिस
आगर आपको चाहिए बाइक और स्कूटर पर AC जैसी हवा तो पड़ ले यह खबर
रुद्रपुर : पार्ट टाइम जॉब के नाम पर युवती से एक लाख से ज्यादा की ठगी
देहरादून : दिपेश सिंह कैड़ा ने UPSC के लिए छोड़ दी थी नौकरी, तीसरे प्रयास में पूरा हुआ सपना
उत्तराखंड में 10-12th के बोर्ड रिजल्ट 30 अप्रैल को होंगे घोषित, ऐसे करें चेक 

UPSC : पहले बनी IPS फिर बनी IAS – कुछ ऐसी है कामयाब गरिमा की कहानी

देहरादून से कार्यकारी संपादक आशीष तिवारी की विशेष रिपोर्ट –

जिस भी माता पिता की बेटी है वो इस खबर को ध्यान से दिल से पढ़े। जिसको अपने घर बेटी होने का अफ़सोस है वो तो ज़रूर पढ़े , क्योंकि अगर आपकी बिटिया भी कल गरिमा जैसी कामयाब शख्सियत बन गयी तो आपको आज की ये खबर ज़रूर याद आएगी। देश का कोई भी स्टूडेंट हो उसके लिए यूपीएससी परीक्षा को पास करना एक बड़ी चुनौती मानी जाती है। काबिलियत जूनून और लगन का अगर आपके अंदर सामंजस्य है तो आप अपना सपना ज़रूर पूरा कर सकते हैं। IAS गरिमा अग्रवाल भी एक ऎसी ही मिसाल हैं जिन्होंने इस चुनौती का सामना किया और पहले IPS बनीं और फिर अगली कोशिश में IAS अधिकारी बनने का सपना पूरा किया। उनकी यूपीएससी की यात्रा लाखों हिंदुस्तानी युवाओं के लिए प्रेरणा है , ख़ास कर लड़कियों के लिए तो एक रोलमॉडल बन गई हैं।

गरिमा अग्रवाल 2019 बैच की आईएएस अधिकारी हैं। वह मूल रूप से मध्य प्रदेश के खरगोन की रहने वाली हैं। शुरू से पढ़ाई में मेधावी रहीं गरिमा ने स्कूल की पढ़ाई खरगोन के ही सरस्वती विद्या मंदिर से की और 10वीं में 92 फीसदी अंक हासिल किए। इसके बाद 12वीं में उन्हें 89 फीसदी अंक मिले।12वीं के बाद गरिमा ने आईआईटी हैदराबाद से इंजीनियरिंग की और जर्मनी में इंटर्नशिप करने चली गईं। लेकिन उन्होंने विदेश में सेवाएं देने की जगह अपने देश को चुना और भारत आकर तैयारी करना शुरू कर दिया।

साल 2017 में अपने पहले अटेंप्ट में ही उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा में 240वीं रैंक हासिल की और IPS अधिकारी बनीं। इसके बावजूद उन्होंने पढ़ाई जारी रखी और साल 2019 में दोबारा परीक्षा दी और इस दूसरे अटेंप्ट में 40 वीं रैंक हासिल की और IAS अधिकारी बनीं।

गरिमा का कहना है कि यूपीएससी की तैयारी में धैर्य रखना बहुत जरूरी है। ऐसे में उन लोगों के साथ रखें, जो आपको पॉजिटिव रखें। तो अगर आप भी अपने आँखों में ऐसा ही कोई सुनहरा सपना पालते हुए शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं तो गरिमा अग्रवाल जैसी मिनट भी ज़रूर कीजिये कामयाबी , आपके कदम चूमेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top