Flash Story
देहरादून :  मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल लिवर रोगों  को दूर करने में सबसे आगे 
जेल में बंद कैदियों से मिलने के लिए क्या हैं नियम
क्या आप जानते हैं किसने की थी अमरनाथ गुफा की खोज ?
राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने भारतीय वन सेवा के 2022 बैच के प्रशिक्षु अधिकारियों को दी बधाई
आग में फंसे लोगों के लिये देवदूत बनी दून पुलिस
आगर आपको चाहिए बाइक और स्कूटर पर AC जैसी हवा तो पड़ ले यह खबर
रुद्रपुर : पार्ट टाइम जॉब के नाम पर युवती से एक लाख से ज्यादा की ठगी
देहरादून : दिपेश सिंह कैड़ा ने UPSC के लिए छोड़ दी थी नौकरी, तीसरे प्रयास में पूरा हुआ सपना
उत्तराखंड में 10-12th के बोर्ड रिजल्ट 30 अप्रैल को होंगे घोषित, ऐसे करें चेक 

E Challan Payment Link पर क्लिक करने से पहले खबर पढ़ लीजिये

देश की राजधानी दिल्ली समेत, पूणे, चंड़ीगढ़ कई शहरों में अब Traffic Challan करने के लिए सीसीटीवी कैमरा लगाए जा चुके हैं। इन कैमरों में आई फुटेज के आधार पर चालान करने वालों के मोबाइल पर E Challan Payment Link भेज दिया जाता है, जिस पर क्लिक कर वाहन मालिक अपना जुर्माना भरता है। लेकिन अगली बार आपके पास आए ऐसे किसी E Challan Payment Link पर क्लिक करने से पहले जहरा ठहरिए? दरअसल, साइबर ठगों ने जालसाजी का नया तरीका ढूंढ लिया है। यह ठग लोगों के पास फर्जी लिंक भेज रहे हैं। जिस पर क्लिक करने पर चंद मिनटों में लोगों के अकाउंट खाली हो रहे हैं।

इस तरह होती है ठगी

जानकारी के अनुसार इस तरह के लोग एक फर्जी मैसेज भेजते हैं। कई बार तो वाहन का नंबर यह आपके सोशल मीडिया अकाउंट से पता लगा लेते हैं। ऐसे में आप अपने वाहन का नंबर देखकर जल्दबाजी या चालान होने की घबराहट में इन लिंक पर क्लिक कर देते हैं। खोलने के बाद यह कुछ डिटेल भरवाता है और फिर आपका फिर आपसे ठगी को अंजाम देता है।

जानें कैसे होगा बचाव

किसी भी SMS या चालान के लिंक को देखकर खोलें
ध्यान रखें इस तरह के फर्जी लिंक अकसर .in पर खत्म होंगे
सरकारी मैसेज या E Challan Payment Link gov.in पर खत्म होते हैं
किसी लिंक को क्लिक करने के बाद अपना बैंक पासवर्ड, यूपीआई पासवर्ड और अकाउंट संबंधी कोई डिटेल कतई शेयर न करें
शक होने पर तुरंत साइबर हेल्पलाइन नंबर 1930 पर कॉल करें या www.cybercrime.gov.in पर सूचना दे सकते हैं

यह भी जानें

इस बारे में पुणे पुलिस और दिल्ली पुलिस ने लोगों को अलर्ट किया है। पुणे में तो Yerawada ऑफिस में अलग हेल्पडेस्क लगाया गया है। सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों को साइबर ठगी और डिजिटल पेमेंट की बारीकियों के बारे में अवेयर किया जा रहा है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top