Flash Story
देहरादून :  मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल लिवर रोगों  को दूर करने में सबसे आगे 
जेल में बंद कैदियों से मिलने के लिए क्या हैं नियम
क्या आप जानते हैं किसने की थी अमरनाथ गुफा की खोज ?
राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने भारतीय वन सेवा के 2022 बैच के प्रशिक्षु अधिकारियों को दी बधाई
आग में फंसे लोगों के लिये देवदूत बनी दून पुलिस
आगर आपको चाहिए बाइक और स्कूटर पर AC जैसी हवा तो पड़ ले यह खबर
रुद्रपुर : पार्ट टाइम जॉब के नाम पर युवती से एक लाख से ज्यादा की ठगी
देहरादून : दिपेश सिंह कैड़ा ने UPSC के लिए छोड़ दी थी नौकरी, तीसरे प्रयास में पूरा हुआ सपना
उत्तराखंड में 10-12th के बोर्ड रिजल्ट 30 अप्रैल को होंगे घोषित, ऐसे करें चेक 

दिलीप कुमार के निधन पर पाकिस्‍तान में भी दुख की लहर, राष्‍ट्रपति अल्‍वी ने जताया शोक

[ad_1]

नई दिल्‍ली. भारतीय सिनेमा के दिग्गज अभिनेता दिलीप कुमार (Dilip Kumar) का लंबी बीमारी के बाद बुधवार की सुबह मुंबई (Mumbai) के हिंदुजा अस्पताल में निधन हो गया. वह 98 साल के थे. ‘ट्रेजेडी किंग’ के नाम से विख्‍यात दिलीप कुमार का असली नाम युसूफ खान (Yusuf Khan) था. उनका जन्म 11 दिसंबर 1922 को पेशावर में हुआ था. उनकी मौत के बाद पाकिस्‍तान (Pakistan) के लोग भी शोक में हैं.

पाकिस्‍तान के राष्‍ट्रपति ने भी दिलीप कुमार के निधन पर शोक जताया है. पाकिस्‍तान के राष्‍ट्रपति आरिफ अल्‍वी ने कहा, ‘ मैं अभिनेता दिलीप कुमार के निधन की खबर सुनकर बहुत दुखी हूं. वह एक शानदार कलाकार, विनम्र इंसान और शानदार व्‍यक्तित्‍व के धनी थे.’

वहीं मंत्री फवाद चौधरी ने भी पाकिस्‍तान के सर्वोच्‍च नागरिक सम्‍मान निशान-ए-इम्तियाज से सम्‍मानित अभिनेता दिलीप कुमार के निधन पर शोक जताया. उन्‍हेांने कहा, ‘दिलीप कुमार अब हमारे बीच नहीं रहे. वह एक प्रतिष्ठित कलाकार थे. उन्‍हें पूरी दुनिया में करोड़ों लोग प्‍यार करते थे. दुनिया के ट्रेजेडी किंग को हमेशा याद किया जाएगा.’

इसके अलावा पाकिस्‍तान के क्रिकेटर शाहिद आफरीदी ने भी दिलीप कुमार को श्रद्धांजलि दी. उन्‍होंने कहा, ‘यूसुफ खान (दिलीप कुमार) के निधन से पाकिस्‍तान से लेकर मुंबई और पूरी दुनिया में उनके प्रशंसकों की बड़ी क्षति हुई है. वह हमारे दिल में हमेशा रहेंगे.’

हिंदी फिल्मों के सबसे लोकप्रिय अभिनेताओं में गिने जाने वाले दिलीप कुमार ने 1944 में ‘ज्वार भाटा’ फिल्म से अपने करियर की शुरुआत की थी और अपने पांच दशक लंबे करियर में ‘मुगल-ए-आजम’, ‘देवदास’, ‘नया दौर’ तथा ‘राम और श्याम’ जैसी अनेक हिट फिल्में दीं. वह आखिरी बार 1998 में आई फिल्म ‘किला’ में नजर आए थे.



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top