Home उत्तराखंड क्या आपको पता है पहले यूरोपीय लोग टमाटर खाने से डरते थे।

क्या आपको पता है पहले यूरोपीय लोग टमाटर खाने से डरते थे।

विद्वानों का मानना है कि हर्नान कोर्टेस ने 1519 में बीजों को बगीचे में सजावटी रूप से इस्तेमाल किए जाने वाले फलों के इरादे से लाया था। 1700 के दशक तक, अभिजात वर्ग ने टमाटर खाना शुरू कर दिया था, लेकिन उन्हें यकीन था कि फल जहरीले थे क्योंकि लोग उन्हें खाने के बाद मर जाएंगे। वास्तव में, टमाटर की अम्लता ने उनकी पेवर प्लेटों में सीसा निकाला, और वे वास्तव में सीसा विषाक्तता से मर गए।15वीं शताब्दी में टमाटर यूरोप पहुंचे। लेकिन, अगले दो साल तक यहां के लोग इसे खाने से डरते थे। क्योंकि यहां के लोग इसे जहरीला मानते थे। यही कारण था कि यूरोप में टमाटर को ‘जहर वाला सेब’ कहा जाता था। इसके कई कारण थे, जैसे अमीर लोगों ने टमाटर खाया और मर गए। बाद में पता चला कि मौत का कारण फैंसी जिंक प्लेट्स था।

इन प्लेटों में लेड की मात्रा अधिक थी। टमाटर में एसिडिटी होती है। ऐसे में जब टमाटर को जिंक की प्लेट में रखा जाता तो वह उसमें से सीसा निकाल देता। नतीजतन, टमाटर खाने वाले लोग मर जाते और मौत का दोष टमाटर के सिर पर था। 188 में नेपल्स में पिज्जा की खोज के बाद, पूरे यूरोप में टमाटर की लोकप्रियता बढ़ी।उस दौर के एक डॉक्टर जेरार्ड ने टमाटर के तनों और पत्तियों से आने वाली भयानक गंध के कारण पूरे पौधे को बदबूदार बताया था। टमाटर को लेकर जेरार्ड का भ्रम ब्रिटेन और ब्रिटेन के उत्तरी अमेरिकी उपनिवेशों में 20 साल तक सच रहा। उस दौर के वैज्ञानिकों ने भी टमाटर को जहरीले पौधों की श्रेणी में रखा था। टमाटर के अंदर डरावने दिखने वाले कीड़े लग जाते थे।

यह भी लोगों में दहशत फैलाने का एक कारण बना। हालाँकि, आज टमाटर दुनिया के हर देश में खाया जाता है और दुनिया भर में हर साल 1.5 बिलियन से भी ज्यादा टन टमाटर का उत्पादन होता है।

RELATED ARTICLES

तीसरे देहरादून अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी महोत्सव (2022) यूकोस्ट में धूमधाम से मनाया गया।

महोत्सव के दूसरे दिन कृषि सम्मेलन, विज्ञान प्रश्नोत्तरी, और ऊर्जा संरक्षण के तहत एक ग्रीन एनर्जी कॉन्क्लेव का भी आयोजन किया गया, जिसमें सीआईआई,...

डीजी सूचना बंशीधर तिवारी से किसने की विज्ञापनों के समान वितरण की मांग ?

काशीपुर मीडिया सेन्टर द्वारा आयोजित सम्मान एवं परिचर्चा कार्यक्रम में सूचना एवं लोक सम्पर्क विभाग के महानिदेशक वंशीधर तिवारी के आगमन पर पत्रकारों ने...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

तीसरे देहरादून अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी महोत्सव (2022) यूकोस्ट में धूमधाम से मनाया गया।

महोत्सव के दूसरे दिन कृषि सम्मेलन, विज्ञान प्रश्नोत्तरी, और ऊर्जा संरक्षण के तहत एक ग्रीन एनर्जी कॉन्क्लेव का भी आयोजन किया गया, जिसमें सीआईआई,...

डीजी सूचना बंशीधर तिवारी से किसने की विज्ञापनों के समान वितरण की मांग ?

काशीपुर मीडिया सेन्टर द्वारा आयोजित सम्मान एवं परिचर्चा कार्यक्रम में सूचना एवं लोक सम्पर्क विभाग के महानिदेशक वंशीधर तिवारी के आगमन पर पत्रकारों ने...

विधानसभा सत्र की सुरक्षा पुख्ता करने विधानसभा भवन पहुंचे एसएसपी ने लिया जायज़ा

देहरादून में आयजित होने जा रही विधान सभा सेशन की सुरक्षा के लिए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दिलीप सिंह कुंवर ने सुरक्षा के दृष्टिगत विभिन्न...

राष्ट्रीय अभियान में मंत्री गणेश जोशी ने लिंग आधारित हिंसा की शपथ दिलाई

प्रदेश के ग्राम्य विकास मंत्री गणेश जोशी ने विकासखण्ड परिसर, सहसपुर, देहरादून में आयोजित लैगिक भेदभाव पर सामुदायिक नेतृत्व में राष्ट्रीय अभियान प्रारम्भ किये...

पौधा और चाँद पर पौड़ी SSP श्वेता चौबे ने लगाया गुंडा एक्ट – सख्त कार्यवाही जारी

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पौड़ी श्वेता चौबे के निर्देशन में आदतन अपराधियों व नशे का कारोबार करने वालों के खिलाफ पौड़ी पुलिस गुण्डा एक्ट की...

दून के जाखन में लगी यातायात पुलिस का चौपाल एसपी ट्रेफिक ने ली बैठक

  “ट्रैफिक मौहल्ला ट्रैफिक कमेटी में पुलिस अधीक्षक यातायात देहरादून द्वारा ली गई मीटिंग” जाखन क्षेत्र की यातायात व्यवस्था के सम्बन्ध में अक्षय कोंडे पुलिस अधीक्षक...

निकाय चुनाव लड़ेगी यूकेडी – उक्रांद के अध्यक्ष (म) बिजेंद्र रावत का एलान

उत्तराखंड क्रांति दल देहरादून महानगर के नव नियुक्त महानगर अध्यक्ष बिजेंद्र रावत का पार्टी कार्यालय में धूमधाम से स्वागत किया गया। स्वागत समारोह की...

मोमोज़ खाने वालों पहले ये पढ़ लो फिर देना आर्डर

मोमोज, सर्दियों के सबसे पसंदीदा स्ट्रीट फूड में गिना जाता है. क्योंकि, कड़कड़ाती ठंड में मोमोज खाने का अपना ही मजा है. जैसे ही...

अचानक कोतवाली कर्णप्रयाग पहुंचे एसपी डोबाल – CCTV मॉनीटरिंग करने के निर्देश दिए

पुलिस अधीक्षक, चमोली प्रमेन्द्र डोबाल द्वारा कोतवाली कर्णप्रयाग का आकस्मिक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने कोतवाली कर्णप्रयाग परिसर, भवन, कार्यालय तथा आवासीय कॉलोनी का...