Flash Story
देहरादून :  मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल लिवर रोगों  को दूर करने में सबसे आगे 
जेल में बंद कैदियों से मिलने के लिए क्या हैं नियम
क्या आप जानते हैं किसने की थी अमरनाथ गुफा की खोज ?
राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने भारतीय वन सेवा के 2022 बैच के प्रशिक्षु अधिकारियों को दी बधाई
आग में फंसे लोगों के लिये देवदूत बनी दून पुलिस
आगर आपको चाहिए बाइक और स्कूटर पर AC जैसी हवा तो पड़ ले यह खबर
रुद्रपुर : पार्ट टाइम जॉब के नाम पर युवती से एक लाख से ज्यादा की ठगी
देहरादून : दिपेश सिंह कैड़ा ने UPSC के लिए छोड़ दी थी नौकरी, तीसरे प्रयास में पूरा हुआ सपना
उत्तराखंड में 10-12th के बोर्ड रिजल्ट 30 अप्रैल को होंगे घोषित, ऐसे करें चेक 

छुट्टियां खत्म, 12 जुलाई से उत्तराखंड में स्कूल पहुंचेंगे शिक्षक, छात्र कबसे आएंगे?

[ad_1]

देहरादून. उत्तराखंड में गर्मियों की छुट्टियों के बाद 12 जुलाई से शिक्षा सत्र शुरू करने और स्कूलों में पढ़ाई सुचारू रूप से किए जाने के संबंध में आदेश जारी कर दिए गए हैं. पहली कक्षा से लेकर 12वीं तक के लिए राज्य भर में स्कूलों को खोले जाने के आदेश जारी करते हुए सरकार ने कहा है कि इस तारीख से सभी शिक्षकों को स्कूलों में हाज़िरी देना होगी, हालांकि अभी छात्रों को स्कूल नहीं आना है. अगले आदेश तक कक्षाएं ऑनलाइन माध्यम से ही चलाई जाएंगी. छात्र कबसे स्कूल आ सकेंगे, इस बारे में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के साथ बातचीत के बाद ही शिक्षा मंत्रालय आदेश जारी करेगा.

राज्य के शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक करने के बाद कुछ अहम फैसले लिये. सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम के हवाले से कहा गया कि 12 जुलाई से सभी स्कूलों में शिक्षकों को उपस्थित होना होगा. यह भी बताया गया कि शिक्षा मंत्री जल्द ही मुख्यमंत्री से बातचीत करने के बाद यह तय कर सकते हैं कि छात्रों के स्कूल आने के बारे में किस तरह कदम उठाए जा सकते हैं.

ये भी पढ़ें : कांवड़ यात्रा : योगी और सीएम धामी की बातचीत के बाद उत्तराखंड लेगा यू टर्न?

ऑनलाइन बैठक में पांडेय ने अटल एक्सलेंस स्कूलों के बारे में कहा कि इस प्रोजेक्ट का दूसरा चरण जल्दी शुरू किया जाएगा. इस चरण में उन स्कूलों को शामिल किया जाएगा, जो सीबीएसई के मानकों पर खरे पाए जाएंगे. इन एक्सलेंस स्कूलों में इंग्लिश मीडियम से पढ़ाई होगी, जिसके लिए योग्य शिक्षकों का चयन भी होगा. बैठक में एक और अहम फैसला यह लिया गया कि दुर्गम क्षेत्रों में सेवा देने वाले शिक्षकों की एक साल की सेवा को दो साल के बराबर ​माना जाएगा.

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top